कृषि विभाग गोंडा उत्तर प्रदेश

क़षि विभाग वर्ष्‍ 1875 में स्‍थापित किया गया था प्रारम्‍भ्‍ में विभाग का कार्य माृ क़ष्‍ि सम्‍बन्‍धी आंकडो का संकलन तथा आदर्श्‍ प्रक्ष्् की स्‍थापना तक सीमित था,तदोपरान्‍त वर्ष्‍ 1880 में विभाग को भू अभिलेख विभाग से सम्‍बऋ कर दिया गया | गर्वमेन्‍ट ाआफॅ इण्‍िडिया एक्‍ट 1919 के पारित होने के उपरान्‍त राज्‍य सरकार द्वारा क़षि नीति प्रतिपादित किये जाने के फलस्‍वरूप क़षि विभाग को 01दिसम्‍बर 1919 से एक स्‍वतन्‍् ् विभाग बनाया गया तथा इस‍की विधिवत स्‍थ्‍ाापना 01मई 1920 को हुइा प्रारम्‍भ में क़षि कार्यो के अतिरिक्‍त गन्‍ना उत्‍पादने कोलोनइजेशन उधान एवं खाध प्रसंस्‍करण से सम्‍बन्धित कार्य कलाप भी विभाग के अन्‍तर्गत संचालित होते थे ा स्‍वतन्‍ृता प्राप्ति के उपरान्‍त गन्‍ना उत्‍पादन के लिए एक प़थक विभाग बनाया गयाा इसके उपरान्‍त वर्ष 1964 में कोलोनाइजेशन योजना समाप्‍त कर दी गयी तदोपरान्‍त वर्ष 1974 में उधान एवं खाध प्रसंस्‍करण विभाग प़थक विभाग के रूप में स्‍थापित कर दिया गया |